Adv. Dilip Kumar

Adv. Dilip Kumar

पति-पत्नी की लड़ाई में मुद्दा नामक कोई चीज होती ही नहीं है।

यदि आपकी शादी होनेवाली है तब यह आलेख आपके लिए लाभदायक है और यदि आपको अपने पति-पत्नी के बीच विवाद है तब यह आलेख आपको जरूर पढ़ना चाहिए। वह स्नातक...

Read more
कानूनी प्रावधान जो त्वरित न्याय दिला सकते है।

नीचे लिखे प्रावधानों का कठोरता से पालन करने पर त्वरित न्याय की प्राप्ति मुमकिन है। घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम 2005 के अधीन प्रस्तुत वाद की सुनवाई, वाद...

Read more
सौभाग्य संख्या – 01

यदि कोई व्यक्ति (वादी/प्रतिवादी) राम यतन शर्मा मेमोरियल ट्रस्ट मुजफ्फरपुर के कार्यालय में आकर कहता/कहती है कि उसकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है और संपत्ति और परिवार से संबंधित विवादों...

Read more
दहेज प्रतारणा का वाद और उससे बचाव से संबंधित कानून।

किसी महिला के पति या उनके नातेदार द्वारा उस महिला के प्रति क्रूर व्यवहार करना भारतीय दंड संहिता की धारा 498(ए) के अंतर्गत अपराध है और उस महिला को पति...

Read more
वैवाहिक मामलों में क्यों भेजे जाते हैं लीगल नोटिस और क्या है कानूनी बाध्यता।

पति और पत्नी के बीच वैवाहिक विवाद होने के परिणामस्वरूप तलाक और भरण पोषण जैसे मामले बनते हैं। तलाक के या भरण पोषण का मामला न्यायालय में दर्ज करवाने के...

Read more
आपस में मोबाईल का पासवर्ड सांझा करनेवाली दम्पत्ति के बीच तलाक की संभावना न के बराबर।

आप यदि आपस में मोबाईल का पासवर्ड सांझा करनेवाली दम्पत्ति है तो आपकी तलाक की संभावना न के बराबर है। आज जहाँ मोबाईल पति-पत्नी के बीच दरार पैदा करने में...

Read more
नोटरी विवाह/तलाक दस्तावेजों को निष्पादित करने के लिए अधिकृत नहीं हैं: – MP HC

ओथ कमिशनर और नोटरी पब्लिक द्वारा स्वयं को तलाक, विवाह आदि से संबंधित दस्तावेजों के निष्पादन में शामिल होने की प्रथा पर मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने नाराजगी व्यक्त की...

Read more
जमाबंदीधारी की मृत्यु के उपरांत एक निश्चित समय के भीतर जमाबंदी ……………

जमाबंदीधारी की मृत्यु के उपरांत एक निश्चित समय के भीतर जमाबंदी का विभाजन अनिवार्य हो जाने से सिविल प्रकृति के वाद में भारी कमी आ सकती है। सिविल प्रकृति के...

Read more
Page 2 of 18 1 2 3 18
WhatsApp chat